Posted in Congress, Corruption, Indian Govt., Inner Voice, Observation, Perspective, Politics, Uncategorized

Rift in AAP

Recent Mcd (Municipal corporation of Delhi) election result bring out the internal fight of AAP (Aam Aadmi Party) on Road. Rift is showing in Aap. Amantullah Khan Mla from Okhla (Delhi) made a stinging remark on Kumar Vishwas that he is a bjp (Bharatiya Manga Party) Agent.  After some drama Khan was suspended from Party and resigned from PAC (Political Affair Committee). 

     One of the the founder member of AAP Poet cum Politician Kumar Vishwas said that All is not going well in AAP. We lost Mcd because of our bad decisions. We gave ticket to those candidate that not qualified for the candidates. We became deaf not listen any party workers. We took decisions in a closed room. We have a full mandate in Delhi, but we didn’t do a mountable size of development work. We did lots of Mistakes. We lost election in Punjab & Goa. He has raised some good points. Even the leader from Punjab Bhagwant Mann also raised some questions on AAP leader. 

In another AAP PAC meeting Kapil Mishra was stripped from the post of Delhi water minister. After stripped from his post he made a bribe remark on Delhi CM Arvind Kejriwal that he took 2 crore rupees from Health minister Satyendra Jain to settled a 50 crore rupee land deal. Party denied the allegation of Kapil Mishra. Kapil Went to Anti Corruption Bureau (ACB) and Crime Investigation Bureau (CBI) to record his statement and FIR against Arvind Kejriwal & Satyendra Jain.

Kapil Mishra wrote a letter to Arvind Kejriwal asked his clarification on AAP leaders foreign Tour. Even he said in his letter that he was a teacher for me that taught me to fight against Corruption. But when my teacher took bribe against his nitty-gritty, then where he can go for truth.

Party workers get confused whom they Support? One Side there is a Convener of AAP  who started an anti corruption movement and other side Kapil mishra who has an evidence.

  People of Delhi voted for AAP in the 2015 assembly election in full swing. They thought that they are different from other parties. But the way a crisis is going in AAP is clearly shown that if someone not stop this crisis , AAP will be broken like a mirror that will not be joined. 

Advertisements
Posted in Indian Govt., Inner Voice, Pakistan, Perspective, Politics, Uncategorized

Government must take strict action against Pak

The way Pakistan Bat (border action team) mutilated & beheaded the body of two Indian soldiers near Loc (Line of Control) is criticize in every way. Defence minister Arun Jaitley appropriately said that the way Pak bat team did with the body of Indian soldiers, it is not even done in War. It is inhumanity.  People made outrageous reaction against Pak. They want to eradicate Pak from Map. Pak became a Smug.  People said that Government must make a single policy and stick to them. Why Government has not taken MFN (Most Favoured Nation) status from Pak?

After the incident Pakistan  made similar reaction in DGMO talk  that he made earlier .” Give them Damn Piece Of Evidence”. Why should we give them evidence? Everyone knows that Pak could not accept the evidence. When 26/11 happened we gave evidence on Ajmal Amir Kasab, but they didn’t accept it. We had given that ISI played a significant role in unrest in Kashmir. They helped Militants in Kashmir. They paid a handsome amount of money to stonepelters. They tried to make Kashmir a bloodshed of land. Their hands Behind slain militant Burhan Wani. We numerous times told them Hafiz Saeed is a terrorist who try to make unrest in Kashmir. Even this time Pak Counterpart dare to said  that India is making the environment unfit for any dialogue. 

Indian Government must ensure that Army must get full control to made action against their counterpart. Army head Bipin Rawat said that India is capable of retaliation and we assure the whole country We give them the same wound. There is no reason to disbelief in army because India had earlier made a Surgical Strike on Pak killed many Mujahideen/Pak soldiers. 

This is not the proper time to made a strategic dialogue with Pak. Prime Minister Narendra Modi in last 3 year did everything a leader do make the whole region a cordial piece of land. All Saarc (South east Asian religion corporation) Nation were invited on Modi’s oath ceremony including Pak. Even Modi surprised the Pak when he visited Pak. But Pak could not realised all these things. Pak Prime Minister Nawaz Sharif has not full autonomy on Army. It is seen numerous time that his many decisions were cancelled by Pak army (ISI)

So, there is tug of war is going on between ISI and Nawaz Sharif. But Indian Government & Indian Army must be ready for any confrontation with their unstable counterpart and give them same wound that they gave us.

Posted in Falsafa,, Uncategorized

मुहब्बत में ही कहीं कुंडली मार कर बैठी होती है नफरत

This is an article which i read on Nbt. The writer easily explain the Love Life. In every  one’s love there is some hate-love relationship. If you understand this equation you understand the meaning of love.

क्या कोई ऐसा है जिसे आप कभी जान से भी ज्यादा प्यार करते थे और आज उतनी ही नफरत करते हैं? बहुत संभव है कि ऐसा हो। ऐसा बहुतों के साथ होता है कि किसी के साथ मुहब्बत की मज़बूत इबारत लिखने की कोशिश शुरू करते हैं और अंजाम के तौर पर नफरत की ताबीर लिख डालते हैं। इतनी कि उसी प्यारे से लगने वाले चेहरे पर तेजाब डाल दें। इतनी कि जान से ज्यादा प्यारे इंसान की जान ही ले लें। और नहीं तो, कान में नाम पड़ते ही जुबान से जहर टपकाना शुरू कर दें। इतनी नफरत…

टीवी, अखबार ऐसे किस्सों से भरे रहते हैं जहां प्यार में नाकाम होने पर कोई उसकी जान ही ले ले। उसे जलील करने में कोई कसर न छोड़े। प्यार और नफरत से गड्डमड्ड इंसानी जज्बात रिश्तों की कैसी गजब उलझन हैं!

एलिजाबेथ टेलर और रिचर्ड बर्टन का रिश्ता कुछ ऐसा ही था। 1963 में हॉलिवुड फिल्म ‘क्लियोपेट्रा’ के सेट पर दोनों की मुलाकात हुई। फिर मुहब्बत…और शादीशुदा होने के बावजूद एक दूसरे से शादी।
1964 में यह शादी हुई। मगर फिर दोनों के दिल में एक-दूसरे के लिए जितना प्यार था, उतनी ही नफरत पैदा हो गई। रिचर्ड एलिजाबेथ को किसी और के साथ बर्दाश्त नहीं कर सकते थे और यही हाल एलिजाबेथ का था। दोनों बहुत झगड़ते, भरी महफिल में एक-दूसरे पर तोहमतें लगाते। दस साल बाद शादी तलाक की कगार पर पहुंच गई। तलाक हुआ। दोनों ने नए पार्टनर तलाश लिए। लेकिन पता नहीं इस प्यार का जुनून कैसा था कि एक साल बाद दोनों ने फिर शादी कर ली। कुछ ही हफ्तों बाद प्यार और तकरार का खेल फिर शुरू हो गया। दोबारा शादी करने के एक साल बाद दोनों ने फिर तलाक लिया। लेकिन तलाक के बाद भी दोनों एक-दूसरे की दीवानगी की गिरफ्त से बाहर नहीं आ सके। रिचर्ड की एक पत्नी ने बाद में बताया कि मौत से पहले रिचर्ड ने उनसे कहा था, एलिजाबेथ अब भी मुझे अपनी और खींचती है। एलिजाबेथ की राय तो दो कदम आगे थी। उसने कहा था – अगर रिचर्ड कुछ वक्त और जिंदा रहते तो हम दोनों फिर शादी कर लेते।

जिस रिश्ते में प्यार इस जुनून की हद तक हो, वहां एक-दूसरे से उम्मीदें भी जरूरत से ज्यादा हो ही जाती हैं। जब ये उम्मीदें पूरी नहीं होतीं तो दुख गुस्से का रूप लेकर बाहर आता है। यही गुस्सा धीरे-धीरे नासूर की तरह नफरत बनकर चेतन मन पर हावी होता जाता है। फिर शुरू हो जाती है जज्बाती रिश्तों में प्यार और नफरत की कश्मकश।

सिगमंड फ्रायड ने बहुत पहले बता दिया था इंसान के चेतन और अवचेतन के इस घालमेल के बारे में। (घालमेल ही तो है। प्यार और नफरत। ऐसे जज्बात, जो एक-दूसरे से बिल्कुल उलट हैं। फिर भी एक दूसरे में समाए रहते हैं। कभी चेतन में तो कभी अवचेतन में।)

फ्रायड ने कहा था, ‘मुहब्बत और नफरत दो अलग जज्बात हैं। लेकिन गौर से देखने पर ही पता चलेगा कि नफरत मुहब्बत में ही कहीं छिपी होती है। नफरत कई बार प्यार से ज्यादा अग्रेसिव होती है। दोनों इस कदर एक दूसरे में गड्डमड्ड हैं कि कभी नफरत मुहब्बत का सीना चीर कर बाहर आ जाती है तो कभी मुहब्बत नफरत का।’

फ्रायड ने तो यहां तक कहा, ‘कुत्तों को ऑब्जर्व कीजिए। वे अपने दोस्तों से प्यार करते हैं और दुश्मनों को काट खाते हैं। इंसानों की तरह नहीं, जो खालिस प्यार करना भी नहीं जानते। उनके प्यार में कहीं न कहीं नफरत की मिलावट जरूर रहती है। वे हमेशा प्यार और नफरत को साथ लेकर चलते हैं।’


प्यार को जुनून और जुनून को नफरत बनते देर नहीं लगती। पर आप सोचेंगे कि अगर यही मानव स्वभाव है तो इसमें कोई कर भी क्या सकता है? पर मुझे लगता है एक आईना साथ लेकर चला जा सकता है, अपने अंतर्मन के लिए। समय-समय पर उस आईने में झांकने की कोशिश की जा सकती है। उससे बात की जा सकती है। नाजुक पलों में खुद से सवाल किए जा सकते हैं। क्या पता कुछ बेहतर सोचने का मौका मिल जाए।

Posted in MS Dhoni, Observation, Perspective, Sports, Team India, Indian Cricket Team, Ashwin, All Rounder, Uncategorized

Dhoni know when he have to hang his Boots

Under the Captaincy of Virat Kohli team India destruct the opposition. Right now, every tone/tempo of the music is correct. Now critics have no word to criticise Virat Kohli  or team India. Fans of Indian cricket team & Virat Kohli want that ODI captain M.S. Dhoni should be replaced as captain. Even the Commentator, analyst want that Virat Kohli must become a Captain in ODI.

Yes, this is a time of Virat Kohli. We all know when Dhoni would become a captain in 2007, he got full-time to made his team from scratch. That’s why he had won the 2007 world cup and 2011 World cup. Even, he had used his power to drop Sachin Tendulkar, Virender Sehwag & Gautam Gambhir in CB series in Thunder Down Under.

He retired from Test Cricket, now he only played One Day Cricket & T20.  He want to lead team India in 2019 world cup. At that time he will be 37 year old. His form will played a vital role in his Captaincy. Because when you are away from regular cricket, your form will dip.His own form and if Indian team win under his captaincy Dhoni will be a captain. But Dhoni also known for his Spontaneous decision, the way he took his decision to retire from test cricket when he was 10 test match short to play 100th test cricket that’s shocked the whole nation & cricket fraternity.  He was under huge pressure to perform & win test matches in Australia. At that time vice captain Virat kohli’s performance was another reason.

Now he is again in pressure. But the way Virat lead team India in test cricket, it is difficult for Dhoni to remain a captain for a long time. In 2017,  There is a champions trophy will be played in England & team India is a defending Champion. Champion trophy decide the fate of M. S. Dhoni. Also  Dhoni know when he will hang his boots.

 

 

 

Posted in Cricket, Inner Voice, Sports, Uncategorized

Can Indian Cricket team maintain their winning spree out of Subcontinent ?

Indian test cricket team is on a winning spree. They beat Westindies in their backyard and maintain their winning streak in their home condition. Under new coach Anil Kumble & Test captain Virat Kohli they decimated New Zealand (3-0) and now they are beating England.
Everything is going good for Indian test Cricket team. Their every step gradually becoming a master stroke e.g. Giving a chance & showing confidence in Jayant Yadav who has no so much domestic experience is became a masterstroke. He has given a good support to R Ashwin & Ravindra Jadeja. He also showed his batting ability in lower order. He showed good temperament when he batted with tailenders. It also give relief to Indian cricket management to play five bowlers & also he filled the place of All rounder, which Indian team is searching for a long time.
All these good things also happened with erstwhile Indian test Captain Ms Dhoni. In his stint his experienced team won all matches that played in subcontinent & even draw a series 1-1 in South Africa & also won a match in Australia. Even through their subcontinent record Ms Dhoni team clinched the no. 1 Spot in test cricket. But when they went to play again against Australia, New Zealand & England in 2012-2015 they were thrashed/destroy/White Washed in Australia & England. Due to loss Indian team was demoralised, players shoulders were down, it showed the effect in home series against England where England won the series.
Does this Indian team under the aggressive Captain Virat Kohli has ability/temperament to win on Bouncy & Swinging track. Right now fast bowlers are also perfoming well on Subcontinent pitches. Does they will be effective in foreign tour ? When R Aswin & Ravindra Jadeja will not be lethal.
Indian A Cricket team coach & erstwhile ”The Wall” Rahul Dravid recently said that this team has ability to win in England & Australia. Indian team has to play five more tests in home condition. When foreign tour will start at that time team & middle order got some experience. At that time his statement will go through lens.

Till Let enjoy the Indian cricket team their winning spree.

Posted in Human Development Index, Hunger index, Malnourished, Poliyics, Uncategorized

भूख और कुपोषण भारत की सबसे बड़ी समस्या

पूर्व राष्ट्रपित एपीजे अब्दुल कलाम ने अपनी किताब ”भारत 2020” में गंभीरतापूर्वक जोर देते हुए लिखा था कि भारत 2020 में सुपरपावर बन जाएगा। अभी चार साल हैं, उनकी बात सत्य सिद्ध हो पाती है या नहीं यह समय के गर्भ में है।
सवाल है कि भारत के सुपरपावर बनने से क्या हो जाएगा। हाल ही में इंटरनेशनल फूड पॉलिसी रिसर्च इंस्टीट्यूट ने ग्लोबल हंगर इंडेक्स जारी किया है, जिसमें भारत को ग्लबोल हंगर इंडेक्स में 97वीं रैंक मिली है। इस सूची में पाकिस्तान को छोड़कर भारत अपने अन्य पड़ोसी देशों जैसे नेपाल, चीन तथा बांग्लादेश से नीचे है। यहां तक की इस सूची में केन्या, मालावी व युद्ध से ग्रस्त इराक भी भारत से आगे हैं। 2015 में नेपाल भारत से 7 पायदान पीछे था, आज व भारत से 15 स्थान आगे है। सन् 2000 में बांग्लादेश भारत से एक स्थान पीछे था, लेकिन पिछले 15 सालों में 7 स्थान आगे हो गया है। साथ ही नेपाल 6 अंक भारत से आगे था, इस बार की रैंकिंग में वो भारत से 25 स्थान आगे है। भारत के सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) की विकास दर करीबन 7.8 प्रतिशत है। भारत खुद को दुनिया के सर्वाधिक शक्तिशाली देशों में शुमार करना चाहता है। लेकिन जिस तरह से देश में कुपोषित बच्चों की संख्या बढ़ रही है, उससे देश की वैशविक स्थिती (ग्लोबल इमेज) को गहरा झटका लग रहा है।
रिसर्च के मुताबिक 39 % बच्चे जिनकी उम्र 0-5 साल है उनका अवरूद्ध विकास (स्टंटेड ग्रोथ) हो रहा है। जिसका मतलब है इन बच्चों को पोषित आहार नहीं मिल पा रहा है। जिस कारण हर बीस में से 1 बच्चा अपनी पांचवी सालगिराह भी नहीं देख पाता। यह बहुत ही भयावह तथा शर्मनाक स्थिति है। बाल मृत्यु दर इस रफ्तार को अगर नहीं रोका गया तो 2016 में पैदा होने वाले 9 लाख बच्चे 2021 में अपनी पांचवी सालगिराह पर जिंदा नहीं रह पाएंगे।
रिपोर्ट के मुताबिक तो भारत अभी तक अन्य विकसित देशों के मुकाबले पासंग भी नहीं है। इसके पीछे एक बहुत बड़ा कारण है। वो है भारतीय राजनीति में धर्म तथा जाति का प्रभाव व एक-दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप का राजनीतिक रवैया। हमारे देश में मानव विकास सूचकांक (ह्यूमन डेवलपमेंट इंडेक्स) पर तो बहस ही नहीं हो पाती। ऐसी बहसें केवल तब ही देखने या सुनने को मिलती हैं जो यूएन, डबल्यूएचओ या अन्य कोई अंतर्राष्ट्रीय संगठन ऐसी कोई रिपोर्ट जारी करता है। भारत में मीडिया ऐसी रिपोर्टों को कोई खास तवज्जो नहीं देता है। क्योंकि स्वास्थ्य से संबंधित कोई न्यूज टीआरपी जेनरेट तो नहीं ही करेगी। यह हमारे चौथे स्तंभ की सच्चाई है। जो बहुत कड़वी है।

Posted in Army, Honour, Indian Govt., Pakistan, Respect, Uncategorized

सर्जिकल स्ट्राइक से जुडे सबूत क्यों उजागर करें सरकार?

पिछले दिनों भारतीय सेना ने पाकिस्तान पर सर्जिकल स्ट्राइक कर आतंकवादियों के छह लॉन्च पैड को नष्ट कर दिया व कई आतंकियों को मार गिराया। प्रधानमंत्री व सेना के वीर व पराक्रमी जवानों पर गर्व होना चाहिए कि उन्होंने उरी हमले में शहीद हुए 19 जवानों का बदला लिया। सर्जिकल स्ट्राइक से बुरी तरह बौखलाए हुए पाकिस्तान ने यूएन से लेकर अंतर्राष्ट्रीय मीडिया तक को सर्जिकल स्ट्राइक वाले स्थानों पर ले गया, यह पुष्टि करने के लिए कि भारतीय सेना द्वारा कोई भी सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुआ। लेकिन हर जगह उसे मुंह की खानी पड़ी। यूएन में भी भारत ने पाक की बातों को नकार दिया और जोर देकर कहा कि भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक किया है। सवाल यह उठता है कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान पांच दिन के बाद ही अंतर्राष्ट्रीय मीडिया को उस स्थान पर क्यों ले गया। अगर सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई तो वो उसी दिन अंतर्राष्ट्रीय मीडिया को वहां क्यों नहीं ले गया। यह समझना आसान है कि पाक जैसे नापाक देश को कितना टाईम लगता है कि सर्जिकल स्ट्राइक वाली जगह को फिर से पहले जैसे करने में। सर्जिकल स्ट्राइक पर भारत को रूस के साथ-साथ अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस, कनाडा, नेपाल, अफगानिस्तान व अन्य देशों का भी भरपूर साथ मिला है, जिससे पाकिस्तान अंतर्राष्ट्रीय समुदाय में अलग-थलग पड़ गया है। पहले तो भारतीय राजनीतिक महानुभाव भी इस मसले पर राजनीति करने से बाज आ रहे थे, लेकिन जब से पाकिस्तान यह साबित करने में कि सर्जिकल स्ट्राइक नहीं हुई है, पूरा दमखम लगा रहा है तब से कांग्रेस के छुटभैया नेता व दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वीडियो जारी कर भारत सरकार से सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत मांगे हैं। अगर विपक्षी पार्टियों को सबूत मांगना ही है तो उनके राष्ट्रीय अध्यक्ष क्यों नहीं मांग रहे हैं।  यह अपने ेआप में दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारतीय राजनेता सेना की काबिलियत के उपर संदेह कर रहे हैं। यह सेना के मनोबल को नीचा करने का काम है।  यूपी के गाजीपुर के देवपूरा में रहने वाले हरेंद्र यादव उरी हमले में शहीद हो गए। उनकी पत्नी ने सर्जिकल स्ट्राइक के बाद कहा था अब जाकर कलेजे को ठंडक मिली है। लेकिन राजनेताओं द्वारा सर्जिकल स्ट्राइक पर सबूत मांगे जाने पर उन्होंने कहा कि नेताओं का नाम मेरे सामने मत लीजिए। इनको न तो देश की चिंता है, न सेना की सिर्फ अपनी सियासत की इन्हें पड़ी है। ये अपनी सियासत के लिए कुछ भी कर सकते हैं। सेना के डीजीएमओ का बयान इन राजनेताओं के लिए काफी नहीं। सरकार किसी के कहने पर क्यों सबूत जारी करे। जब अमेरिका ने पाकिस्तान के एबटाबाद में छिपे ओसामा बिन लादेन को मार गिराया था तो क्या उसने किसी को स्ट्राइक के सबूत सौंपे थे। किसी ने भी समुद्र में उस स्थान की जानकारी नहीं मांगी जहां शव को अतल गहराई में उतार दिया गया था। उस आॅपरेशन में राष्ट्रपति बराक ओबामा की वॉर रूम वाली तस्वीर ही सामने आई थी जिसमें वे अन्य सैन्य अधिकारियों के साथ मिलकर आॅपरेशन का नेतृत्व कर रहे थे। भारतीय सेना ने सर्जिकल स्ट्राइक से जुड़े वीडियो फुटेज व अन्य सबूत रक्षा मंत्रालय व पीएमओ को सौंप दिए हैं। सरकार भी विपक्ष के दबाव के बावजूद वीडियो फुटेज को जारी नहीं करने को लेकर अपना मत व्यक्त कर चुकी है। जिस तरह सर्जिकल स्ट्राइक समयानुकूल कदम था उसी तरह उसके सबूत पेश न करना भी देशहित का मामला है।

Posted in Inner Voice, Politics, Uncategorized, women

समानता का बर्ताव मुस्लिम महिलाओं का नैसर्गिक अधिकार

मुस्लिम समुदायों में बिना महिलाओं के जानकारी व उनकी सहमति के बिना उन्हें तीन बार बोलकर तलाक (तलाक ए बिद्दत) देने के खिलाफ मुस्लिम महिला शायरा बानो ने इस प्रथा को बैन करने के विरूद्ध सुप्रीम कोर्ट में याचिका डाली थी। जिस पर सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों मुस्लिमों में तीन तलाक व बहुविवाह पर केंद्र सरकार से जवाब मांगा था। जिस पर केंद्र सरकार ने गृह मंत्री, कानून मंत्री व महिला बाल विकास मंत्रालय से काफी सलाह मशिवरा के बाद अपना हलफनामा डालते हुए कहा कि लैंगिक समानता व महिलाओं की गरिमा ऐसी चीज है, जिस पर समझौता नहीं किया जा सकता। केंद्र सरकार महिलाओं के सम्मान व उनके अधिकारों की रक्षा करती है। इस लिहाज से सरकार तीन बार तलाक बोलने की प्रथा व बहुविवाह के फैसले का विरोध करती है। केंद्र सरकार के इस हलफनामे का मुस्लिम महिलाओं ने स्वागत किया तो वही आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड व रूढ़िवादी विचारों वाले मुस्लिम नेताओं ने इस फैसले का पुरजोर विरोध किया है। उनका कहना है कि यह फैसला मुस्लिम समुदाय व शरीयत कानून के विरूद्ध है व सरकार देश में समान नागरिक संहिता को लागू करना चाहती है। बोर्ड के सदस्य बताएंगे कि क्या शरीयत कानून संविधान से ऊपर है? क्या मुस्लिम महिलाओं को उनका सम्मान व हक नहीं मिलना चाहिए? संविधान के मौलिक अधिकार के अनुच्छेद 25 के तहत हर व्यक्ति को अपने मन पसंद धर्म को चुनने, उसका प्रचार करने और उसे अपनाने का अधिकार है।
लेकिन सवाल यह उठता है कि क्या धर्म के नाम पर आप किसी से समानता का अधिकार छीन सकते हंै? क्या एक लोकतांत्रिक देश में आप किसी को धर्म के नाम पर उसके अधिकारों से वंचित रख सकते हैं? आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने फैसले का विरोध करते हुए अपना तर्क रखते हुए कहा कि यह मसला मुस्लिमों का व्यक्तिगत मसला है, जिसके तहत केंद्र सरकार को कोई हक नहीं है इसको बदलने का। वे आगे कहते है कि तलाक देने का कानूनी रास्ता काफी लंबा व उलझा हुआ है।
आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने इस संबंध में विधि आयोग की प्रश्नावली का जवाब में कहा है कि वो इसका जवाब नहीं देंगे क्योंकि उनका आरोप है कि विधि आयोग की प्रश्नावली लोगों को भ्रमित करने के लिए तैयार की गई है।
आॅल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड जो सिर्फ एक बोर्ड है उसे यह जानना चाहिए कि कई इस्लामिक देशों में तीन बार बोलकर देने वाला तलाक बैन हो चुका है। जब यह इस्लामिक देश में बैन हो सकता है तो भारत जैसे धर्मनिरपेक्ष व लोकतांत्रिक देश में क्यों नहीं। इस मुद्दे पर मुस्लिम वोटों को अपनी तरफ मोड़ने के लिए राजनीति भी शुरू हो गई है। विपक्षी पार्टियां सरकार के इस कदम को मुस्लिम समुदाय के खिलाफ बता रही हैं और कह रही है कि केंद्र सरकार पूरे देश में समान संहिता कानून लागू करने के मकसद से इस तरह की कदम उठा रही है। विपक्षी पार्टियों को न तो मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों की चिंता है न संविधान की उन्हें तो बस चिंता है अपने वोट बैंक की।

 

Posted in Uncategorized

Yes I am Apologizing from my Angel…… Plzzzz come back in My Life…………

Heartbreak are never easy. They wrenched your lovely Heart. You gave your whole  3 years to your Love lady, suddenly she Left you. You don’t know what to do. We all felt helpless and heartbroken. She didn’t give you time to explain your Position.  Without her Life become miserable. You tried many things to bring back in your Life. But unfortunately it couldn’t happen. I even do many things to deal with this heart wrenching effect. I couldn’t understand what is going through in my Life. Don’t know why she didn’t keep her promise. I tried to figure it out. But I couldn’t.

It’s almost 1 year since she left me. She is always in my thought. These things happened with every lovebirds when one of them leave their cupid nest.

Since last year I tried myself to control, my thoughts not to think about Angel. But i couldn’t. Her smell, her beautiful smile, her talk, her intelligence every bit of her i am missing. I kept my Promise not to left her in any aggravate condition.I kept my promised, but she didn’t. I told her that you are my soul. Without you my life is over, no joy in my life. I am alive but my soul is with you Angel.

Every morning when I wake up I asked one thing from God, Please send her back in my Life. She is my Life. She is my happiness. But is not happening. Don’t know when he will listen my prayers.

People said that this is a very small world, but for me this is an enormous world. I am looking for her everyday, in Metro, Pedestrian in even every Girl. Even on her birthday I messaged her with a name that I used to call her but She didn’t recognise that name. That moment wrenched my heart. It feels like someone pierced a Knife in my heart. I couldn’t control my tears, that rolled down. I sobbed almost 1 hour and cursed that moment of my life when She came in my Life.

Since last year I couldn’t know anything about her. She is ok Or not. I remember when she fall ill I call no. of times to ask about her health or vice-versa. Now I don’t know anything about her.

I am praying every moment God she is not in my life, I accept this. THis is the destiny of mine. But Plzzzzzzzzzzzzzzzz Give her my happiness, my Luck and everything. Because i don’t want her to be sad or in grief a single moment. She deserves every bit of Happiness, because she is God’s Favorite child.

In Last 1 Year I compared thousands of Girls to her, but none of them had any quality like her. Don’t know why am I comparing. I think I am going to Insane. Her memory/thought is making my Life very Difficult.

I am just waiting for a day when she met me  I asked her why she didn’t keep her promise. Why She Left me? There are innumerable number of questions that I want to ask her.

Yes, I am apologizing for my sin, for my unruly behaviour with you.

Plzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzzz come back in my life…………..

 

 

Posted in Cricket, Team India, Indian Cricket Team, Ashwin, All Rounder, Uncategorized

Team India Find a Genuine All Rounder …

Indian Team won the 1st test match against New Zealand with a 197 run margin. Both Indian batting & bowling unit perform well. Many New Zealand players are playing 1st time on subcontinent Pitches, their  batting unit also performed very well on Spin friendly wicket and gave a good fight. But one man who made a big impact on the match was Off Spinner Ravichandaran Ashwin.  The way he bowled and made gritty 40 odd runs in a crunch time that showed his Character & Temperament. He took 10 wicket in that test and also surpass 200 wicket tally in 37 matches. That is a new world record. He played less match to take 200 wickets.

Indian cricket team always try to find a genuine All rounder, who can bat in lower middle order and also take wicket. The way Ashwin had Played in West Indies & now against New Zealand, its seems like Indian Cricket Team has finally find their Genuine All rounder.  Ashwin only need to prove himself that he can take wickets in faster pitches like Australia, South Africa And England.In Indian Cricket dressing room, there is a 3rd highest wicket taker bowler & coach of Indian Cricket Team Anil Kumble is there who can give advise to Ashwin.

If Ashwin can perform well as an All rounder then he becomes a great asset for Team India. Then Indian team can also played with 5 bowlers.